मुख पृष्ठ
Home
 
सहकारी समितियों के व्यवस्थापकों ने आन्दोलन किया समाप्त पांच मांगों पर बनी सहमति
जयपुर, 2 जुलाई। सहकारिता मंत्री श्री उदय लाल आंजना की उपस्थिति में मंगलवार को यहां शासन सचिवालय में राजस्थान सहकारी कर्मचारी संघ के अध्यक्ष श्री नन्द लाल वैष्णव ने व्यवस्थापकों के आन्दोलन को खत्म करने की घोषणा की। इस अवसर पर रजिस्ट्रार सहकारिता डॉ. नीरज के. पवन भी उपस्थित थे। श्री आंजना ने बताया कि सहकारी समितियों के व्यवस्थापकों की जायज पांच मांगों के संबंध में उचित निर्णय लिया गया है तथा शीघ्र ही इनके आदेश जारी किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि सहायक व्यवस्थापक से व्यवस्थापक के लिये स्क्रिनिंग करने, व्यवस्थापकों के कैडर संबंधी बिजनेस करस्पोंडेंट नहीं बनाने, ऋण पर्यवेक्षक के पद पर पदौन्नति एवं वेतन समझौते की मांगों के संबंध में व्यवस्थापक संघ के पदाधिकारियों के साथ विचार विमर्श कर सहमति बन गई है। सहकारिता मंत्री ने बताया कि व्यवस्थापकों के लोन सुपरवाइजर के पद पर पदौन्नति का विस्तृत आंकलन कर शीघ्र ही आदेश जारी किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि व्यवस्थापक 3 जून से विभिन्न मांगों को लेकर आन्दोलनरत थे। आन्दोलन समाप्ति की घोषणा से किसानों को फसली ऋण वितरण में तेजी आयेगी। इस मौके पर व्यवस्थापक संघ के अध्यक्ष श्री वैष्णव ने सहकारिता मंत्री को आश्वस्त किया कि प्रदेश में आयोजित होने वाले सहकारी फसली ऋण ऑनलाइन पंजीयन एवं वितरण योजना के सफल क्रियान्वयन के लिये आज से ही सभी व्यवस्थापक एकजुट होकर कार्य करेंगे।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.