मुख पृष्ठ
Home
 
राज्य के 19.42 लाख किसानों के 7 हजार 810 करोड़ के ऋण हुये माफ जुलाई के द्वितीय सप्ताह में किसानों को किया जायेगा फसली ऋण का वितरण
जयपुर,28 जून। सहकारिता मंत्री श्री उदय लाल आंजना ने शुक्रवार को राज्य विधानसभा में कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा लागू की गई फसली ऋण माफी से राज्य के 19.42 लाख किसानों का 7 हजार 810 करोड़ रूपये का ऋण माफ कर प्रमाण पत्र जारी कर दिये गये है, जिसकी सूची लोन वेवर पोर्टल पर उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि सहकारी बैंकों के किसानों को जुलाई के द्वितीय सप्ताह में फसली ऋण का वितरण प्रारम्भ कर दिया जायेगा। श्री आंजना सदन में ऋण माफी पर हुई चर्चा का जबाव दे रहे थे। उन्होंने कहा कि गत सरकार की गलत नीतियों के कारण किसानो की दशा खराब होने लगी इस कारण किसानों की पीड़ा को जन घोषणा पत्र में जारी किया गया। जन घोषणा पत्र को लागू करते हुए राज्य सरकार के स्तर से आदेश जारी कर 30 नवम्बर 2018 की स्थिति में पात्र किसानों के फसली ऋण माफ किये गये। सहकारिता मंत्री ने कहा कि सहकारी बैंकों के सीमान्त एवं लघु किसानों को 30 नवम्बर 2018 की स्थिति में अवधि पार खातों के 2 लाख रूपये तक के मध्यकालीन एवं दीर्घकालीन कृषि ऋण माफ किये गये है। इससे 69 हजार किसानों की लगभग 4 लाख बीघा जमीन रहन मुक्त होगी और यह प्रक्रिया जारी है। अब तक 16 हजार 913 किसानों का 184 करोड़ रूपये माफ कर 80 हजार बीघा जमीन किसानों के नाम उनके राजस्व खातों में इंद्राज की गई है। उन्होंने कहा कि गत सरकार के वित्तीय कुप्रबन्धन के कारण ऋण माफी के पेटे 2000 करोड़ रूपये उपलब्ध कराये गये और शेष 6 हजार करोड़ रूपये हमारी सरकार ने किसानों के हित में वहन कर किसानों को ऋण माफी दी। उन्होंने कहा कि यदि गत सरकार पारदर्शिता के साथ ऋण माफी करती तो डूंगरपुर जैसे घटनाएं नहीं होती। हमने डूंगरपुर में गत सरकार की ऋण माफी में हुई अनियमिताओं की जांच करवाई है और 6 दोषियों को निलंबित किया गया है तथा तत्कालीन एमडी को चार्ज सीट दी गई है। सहकारिता मंत्री ने कहा कि सहकारी बैंकों की ओर से खरीफ सीजन में किसानों को 10 हजार करोड़ रूपये के फसली ऋण का वितरण किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ऋण वितरण में पारदर्शिता लाने के लिए 3 जून से ऑनलाईन पंजीयन की व्यवस्था प्रारंभ की है और अब तक 2.30 लाख किसानों ने पंजीयन करा लिया है। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार की गलत नीतियों की वजह से कृषि निर्यात में कमी आई है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बीमा कम्पनियों को फायदा मिल रहा है तथा किसानों की स्थिति खराब हुई है। श्री आंजना ने कहा कि वर्तमान सरकार किसानों की सच्ची सरकार है और किसानों के हित में अच्छे कदम उठाये जायेंगे। सहकारिता मंत्री ने गंगानगर जिले में हुई किसान की मृत्यु का जिक्र करते हुए कहा कि मृतक किसान द्वारा सिंड़ीकेट बैंक से लोन लिया गया था किसान को लोन चुकाने के लिए किसी प्रकार से प्रताड़ित नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि किसान का वीडियो एवं प्राप्त नोट जांच के विषय है कि दबाव में या गलत तरीके से तो नहीं बनाया गया है। इस संबंध में विस्तृत जांच करवाई जा रही है।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.