मुख पृष्ठ
Home
 
सभी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सासायटियों की जांच करवाई जाएगी उप रजिस्ट्रारों को जांच एवं कार्यवाही के आदेश दिये
जयपुर, 29 मई। रजिस्ट्रार सहकारिता डॉ. नीरज के. पवन ने कहा है कि राज्य में सभी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सासायटियों की जांच करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान में संचालित, असंचालित तथा गड़बड़ी करने वाली क्रेडिट एवं थ्रिफ्ट सोसायटियों की जानकारी प्राप्त की जाएगी तथा जिनमें अनियमितताएं पाई जाएगी उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। डॉ. पवन बुधवार को शासन सचिवालय में वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से राज्य के सभी खण्डीय रजिस्ट्रारों, उप रजिस्ट्रारों, अरबन एवं क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने सभी सभी खण्डीय रजिस्ट्रारों को निर्देश दिये की अरबन एवं क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों से संबंधित सभी मामलों पर बारीकी से नजर रखें। रजिस्ट्रार ने कहा कि ऐसी सोसायटियों को जनता के पैसे का सही हिसाब-किताब रखना होगा तथा जिस उद्धेश्य को लेकर इनका गठन हुआ है उस पर ईमानदारी से कार्य कर जनता को लाभ प्रदान करे। उन्होंने सोसायटियों के प्रतिनिधियों को सख्त निर्देश दिये कि गड़बड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। डॉ. पवन ने जिला उप रजिस्ट्रारों को निर्देश दिये कि जिले में कार्यरत अरबन एवं क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों की सूची बनायी जाए एवं इनका निरीक्षण किया जाए तथा सहकारिता अधिनियम के तहत कार्यवाही करे। उन्होंने कहा कि ऐसे प्रकरणों की लगातार मोनेटरिंग करे एवं कानूनी कार्यवाही करने में हिचके नहीं। उन्होंने निर्देश दिये कि सभी प्रकरणों की विस्तृत रिपोर्ट विभाग को शीघ्र भेजे। रजिस्ट्रार ने कहा कि आमजन को भी इस बारे में जागरूक किया जाए कि अरबन एवं क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों द्वारा संचालित की जा रही योजनाएं सहकारिता विभाग द्वारा अनुमोदित नहीं है तथा लोग सोच-समझकर स्वयं के जोखिम पर ऐसी संस्थाओं में निवेश करे। वीडियो कान्फ्रेसिंग के दौरान विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.