मुख पृष्ठ
Home
 
पीडित किसान परिवारों को मिलेगा बीमा क्लेम का शीघ्र लाभ बीमा कम्पनी के प्रतिनिधियों को सख्ती से पालना के दिये निर्देश
जयपुर, 28 मई। रजिस्ट्रार सहकारिता डॉ. नीरज के पवन ने कहा कि पीडित किसान परिवारों के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। सहकारी बैंकों से फसली ऋण लेने वाले जिन बीमित किसानों की दुर्घटना में मृत्यु हो गयी है ऐसे किसान परिवारों को दुर्घटना बीमा के तहत बीमा क्लेम के रूप में 10 लाख रूपये तक की राशि बीमा करने वाली कम्पनी से दिलवायी जाएगी। डॉ. पवन ने इस संबंध में मंगलवार को यहा सहकार भवन में श्रीराम जनरल बीमा कम्पनी के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक में निर्देश देते हुए कहा कि बीमा कम्पनी शीघ्र किसानों को लंबित क्लेम का भुगतान करे। उन्होंने कहा कि कम्पनी द्वारा 15.30 लाख किसानों का बीमा किया गया जिसके पेटे 28.63 करोड़ रूपये का भुगतान प्रीमियम के रूप में कम्पनी को दिया गया है। रजिस्ट्रार ने कहा कि कम्पनी द्वारा पीडित किसान परिवार को बीमा क्लेम के भुगतान में देरी की गई है और अब तक मात्र 11 क्लेम पास किये है। उन्होंने कहा कि लगभग 300 क्लेम कम्पनी के पास लंबित है जिनका भुगतान किसान परिवारों को होना है। उन्होंने निर्देश दिये कि यदि किसी भी स्तर पर क्लेम से संबंधित दस्तावेजों में कमी है तो उन्हें शीघ्र पूरा कर पीडित परिवार को क्लेम की राशि जारी करे। डॉ. पवन ने स्पष्ट निर्देश दिये की जिन क्लेम में सभी दस्तावेज सही है उनका क्लेम शीघ्र बीमा कम्पनी जारी करे। उन्होंने कहा कि जिन क्लेम के दस्तावेजों में कुछ कमियां है तो संबंधित बैंक के अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर उसे पूरा करे ताकि पीडित परिवार को राहत दी जा सके। अपैक्स बैंक के प्रबंध निदेशक श्री इन्दर सिंह ने बीमा क्लेम की वस्तुस्थिति से रूबरू कराते हुए कहा कि क्लेम की राशि जारी करने के लिए बीमा कम्पनी से लगातार संपर्क किया गया। उन्होंने कहा कि यदि किसी क्लेम के दस्तावेजों में यदि कमी है तो कम्पनी को शीघ्र ही सूचित करना चाहिए ताकि समय पर पीडित किसान परिवार को बीमा क्लेम का लाभ मिल सके । बैठक में अतिरिक्त रजिस्ट्रार बैकिंग श्री भोमाराम, अपेक्स बैंक महाप्रबंधक श्री पी.सी. जाटव एवं बीमा कम्पनी के प्रतिनिधियों सहित विभाग एवं अपेक्स बैंक के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.