मुख पृष्ठ
Home
 
किसानों को 27 से 30 जुलाई तक 303 शिविरों में मिलेंगे ऋण माफी प्रमाण-पत्र 1 लाख किसान होंगे लाभान्वित
जयपुर, 26 जुलाई। सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक ने गुरूवार को बताया कि राज्य में 27 से 30 जुलाई तक आयोजित होने वाले 303 ऋण माफी शिविरों के माध्यम से लगभग 1 लाख किसानों को फसली ऋण माफी प्रमाण-पत्र वितरित किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि 27 जुलाई को 134, 28 जुलाई को 40, 29 जुलाई को 9 एवं 30 जुलाई को 120 शिविर ग्राम सेवा सहकारी समितियों में आयोजित किये जायेंगे। श्री किलक ने बताया कि 27 जुलाई को अलवर जिले में 16, पाली जिले में 15, जोधपुर जिले में 14, भरतपुर जिले में 11, हनुमानगढ़ एवं जालोर जिलों में 9-9, टोंक जिलें में 7, चुरू जिले में 7, दौसा, सवाईमाधोपुर एवं उदयपुर जिलों में 5-5, बांसवाड़ा, बीकानेर, डूंगरपुर, जयपुर, जैसलमेर एवं करौली जिलों में 4-4, झालावाड़ जिले में 3, बाड़मेर एवं सिरोही जिले में 2-2 तथा नागौर जिले में 1 ऋण माफी शिविर आयोजित होंगे, जिनमें 144 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के कृषक लाभान्वित होंगे। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार 28 जुलाई को अलवर जिले में 15, हनुमानगढ़ जिले में 8, सवाईमाधोपुर जिले में 5, जोधपुर एवं पाली जिले में 3-3, जालोर एवं नागौर जिलों में 2-2 तथा चुरू एवं करौली जिलों में 1-1 शिविरों का आयोजन कर 40 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के किसानों को ऋण माफी प्रमाण पत्र बांटे जाएंगे। श्री किलक ने बताया कि 29 जुलाई को सवाईमाधोपुर जिले में 5, जोधपुर जिले में 3 तथा करौली जिले में 1 ऋण माफी शिविर आयोजित होंगे, जिनमें 9 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के कृषक लाभान्वित होंगे। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार 30 जुलाई को पाली जिले में 18, अलवर जिले में 13, भरतपुर जिले में 11, जोधपुर जिले में 10, दौसा एवं जालोर जिलों में 7-7, हनुमानगढ़, सवाईमाधोपुर एवं टोंक जिलों में 6-6, करौली जिले में 5, बांसवाड़ा, चुरू, डूंगरपुर, जैसलमेर, झालावाड़ एवं उदयपुर जिलों में 4-4, बीकानेर जिले में 3, जयपुर जिले में 2 तथा नागौर एवं सिरोही जिलों में 1-1 शिविरों का आयोजन कर 127 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के किसानों को ऋण माफी प्रमाण पत्र बांटे जाएंगे। सहकारिता मंत्री ने बताया कि संबंधित ग्राम सेवा सहकारी समितियों पर आयोजित हो रहे शिविरों की तैयारियां कर ली गई हैं। पात्र किसानों की सूचीयां भी चस्पा हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि पात्र किसानों को प्रमाण-पत्र देने के साथ ही नये ऋण के लिये आवेदन भी लिया जा रहा है ताकि किसान को ऋण राशि भी जारी हो सके।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.