मुख पृष्ठ
Home
 
किसानों को चना एवं सरसों का 523.17 करोड़ का भुगतान 44 हजार 848 किसानों के खातों में जमा हुई राशि 3 लाख 82 हजार 168 किसानों को 4323 करोड़ का हो चुका है भुगतान
जयपुर, 24 जुलाई। सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक ने मंगलवार को बताया कि समर्थन मूल्य पर 16 जून तक सरसों एवं चना का बेचान करने वाले 44 हजार 848 किसानों को 523 करोड़ 17 लाख रुपये का भुगतान सीधे उनके पंजीकृत बैंक खातों में किया गया है। उन्होंने बताया कि भुगतान से शेष 51 हजार 501 किसानों के बैंक खातों में शीघ्र ही भुगतान राशि आॅनलाइन ट्रांसफर की जा रही है। 4323 करोड़ का किया भुगतान श्री किलक ने बताया कि खरीफ सीजन में प्रदेश 4 लाख 33 हजार 669 रिकार्ड किसानों से 4 हजार 961 करोड़ 62 लाख रुपये मूल्य की सरसों, चना, गेहूं एवं लहसुन की खरीद की गई थी, जो एक कीर्तिमान है। उन्होंने बताया कि 24 जुलाई तक 3 लाख 82 हजार 168 किसानों को उनकी उपज के बेचान पेटे 4 हजार 323 करोड 89 लाख रुपये का भुगतान उनके पंजीकृत बैंक खातों में करवाया जा चुका है। 16 जून तक उपज बेचने वालों को हुआ भुगतान प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता श्री अभय कुमार ने बताया कि खरीफ सीजन-2018 में राजफैड द्वारा नैफेड के लिये समर्थन मूल्य पर सरसों, चना एवं गेहूं तथा बाजार हस्तक्षेप योजना के तहत लहसुन की खरीद की गई थी। उन्होंने बताया कि गेहूं एवं लहसुन का बेचान करने वाले सभी किसानों को भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि 16 जून, 2018 तक उपज का बेचान करने वाले किसानों को भुगतान करवाया जा चुका है। सरसों के 13 हजार 521 एवं चना के 37 हजार 980 शेष किसानों को शीघ्र भुगतान करवाने के लिये नैफेड से राशि प्राप्त करने के लिये प्रयास किये जा रहे हैं। चना की 306 करोड़ एवं सरसों की 217 करोड़ की राशि खातों में जमा राजफैड की प्रबंध निदेशक डाॅ. वीना प्रधान ने बताया कि नैफेड से हाल ही में प्राप्त राशि से सरसों का बेचान करने वाले 19 हजार 320 किसानों को 216.99 करोड़ रुपये का तथा चना बेचान करने वाले 25 हजार 528 किसानों को 306.18 करोड़ रुपये का भुगतान करवाया गया है। उन्होंने बताया कि नैफेड द्वारा जैसे-जैसे भुगतान राशि जारी की जा रही है, उसे तत्काल संबंधित किसानों के खातों में उनके द्वारा बेचान की गई उपज की राशि के अनुरूप आनलाइन जमा किया जा रहा है।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.