मुख पृष्ठ
Home
 
आधार नामांकन विहीन ऋणी किसानों का होगा नामांकन किसानों को डिफाल्टर होने से बचाने के लिए अभियान चलाकर बकाया ऋण किया जाएगा जमा
जयपुर, 12 जुलाई। रजिस्ट्रार सहकारिता श्री राजन विशाल ने कहा है कि जिन पात्र ऋणी किसानों का ऋण माफ किया गया है और उनका आधार नामांकन नहीं हुआ हैं ऐसे सभी किसानों को चिन्हित कर पंचायत समिति मुख्यालय पर ले जाकर आधार कार्ड बनवाया जाएगा। जिससे वास्तविक किसान को ऋण माफी का लाभ मिल सके। श्री विशाल गुरूवार को अपेक्स बैंक के सभागार में केन्द्रीय सहकारी बैंकों के प्रबंध निदेशकों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अब तक 21.95 लाख किसानों का डेटा वेलिडेशन कर अपलोड किया जा चुका है। उन्होंने निर्देश दिये कि शेष डेटा को 20 जुलाई तक आवश्यक रूप से अपलोड कर लिया जाएगा। रजिस्ट्रार ने कहा कि सभी बैंक पात्र किसानों के ऋण माफी प्रमाण पत्र शीघ्र तैयार करे एवं जनप्रतिनिधियों से सामंजस्य बनाते हुए आयोजित ऋण माफी शिविरों में किसानों को वितरित करे। उन्होंने निर्देश दिये कि 31 जुलाई तक शिविर आयोजित कर लिये जाए। श्री विशाल ने कहा कि किसानों को नया फसली ऋण शिविरों में ही वितरित कराए। उन्होंने निर्देश दिये कि आंकड़ों में समरूपता हो इसके लिए डीओआईटी ;क्व्प्ज्द्ध सॉफ्टवेयर पर समय रहते अपलोड कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि जिन किसानों का ऋण माफ हो चुका है तथा बकाया शेष है ऐसे किसानों से वसूली के लिए अभियान चलाया जाए ताकि किसानों को डिफाल्टर होने से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि जिन बैंकों में नया ऋण वितरण करने की प्रक्रिया धीमी चल रही है ऐसे सभी बैंक शीघ्रता से किसानों को चालू खरीफ सीजन में ऋण का वितरण करे। श्री विशाल ने कहा कि जिन बैंकों में स्टाफ की कमी है ऐसे बैंकों को विभाग एवं अपेक्स बैंक द्वारा स्टाफ उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सुनियोजित ढंग से ऋण माफी शिविरों को तय समय में संपन्न करे। उन्होंने निर्देश दिये कि जिन ऋणी किसानों की मृत्यु हो चुकी है या पलायन कर चुके है ऐसे किसानों की सूची बनाकर अपलोड करें। उन्होंने कहा कि बैंकों को राज्य सरकार के पेटे ऋण वितरण के लिए राशि जारी की गई है उस राशि का समय पर ऋण वितरण हो यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने जिला अनुसार नियुक्त नोडल ऑफिसर को निर्देश दिये की लगातार मोनेटरिंग कर ऋण माफी प्रमाण पत्र एवं नए ऋण वितरण की रिपोर्ट लेकर निर्देशों की पालना सुनिश्चित करावें।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.