मुख पृष्ठ
Home
 
सरसों, चना एवं गेंहू के भण्डारण की व्यवस्था स्थानीय स्तर पर की जाए -प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता
जयपुर, 13 अप्रेल। प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता श्री अभय कुमार ने निर्देश दिए हैं कि राज्य में हो रही सरसों, चना एवं गेंहू की खरीद के लिए स्थानीय स्तर पर भण्डारण की व्यवस्था के लिए प्रयास किए जाएं। उन्होंने कहा कि भण्डारण को लेकर किसी प्रकार की कोताही नहीं बरतें। श्री कुमार शुक्रवार को शासन सचिवालय में वीडियो काँन्फ्रेन्सिंग द्वारा सहकारिता विभाग से जुड़े अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने सभी उप रजिस्ट्रार सहकारिता को निर्देश दिए कि खरीदा हुआ माल का जब तक भण्डारण नहीं हो जाता तब तक वे भण्डार स्थल पर उपस्थित रहेंगे। उन्होंने कहा कि ट्रांस्पोर्टेशन रेट एवं हैंडलिंग रेट को जिला कलक्टर के द्वारा अनुमोदित होने पर ही मान्य होगी। उन्होंने कहा कि खरीद करते समय मण्डी या गौण मण्डी एवं गोदामों की उपलब्धता को ध्यान में रखें। उन्होंने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए कि खरीद के दौरान किसी भी प्रकार से किसानों को समस्या नहीं होनी चाहिए। श्री कुमार ने कहा कि जिन किसानों से अब तक खरीद हो चुकी है उनके भुगतान के लिए नेफेड से अगले सप्ताह तक लगभग 223 करोड़ रुपये आने की संभावना है। किसानों के खातों में राशि जारी करने के लिए एसएमएस की सूचना तैयार कर ली गई है और भुगतान मिलते ही तत्काल ही राशि उनके खातों में भेज दी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्याज और लहसुन को लेकर खरीद शीघ्र होने जा रही है और इसके लिए उन्होंने अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए हैं। प्रमुख शासन सचिव सहकारिता ने कहा कि सरसों, चना एवं गेंहू के लिए राजफैड द्वारा 512 केन्द्र खोले गए हैं और आज तक 3 लाख 23 हजार 966 किसानों ने अपना पंजीयन करवा लिया है तथा 54 हजार 535 मैट्रिक टन जिन्स की खरीद हो चुकी है। उन्होंने कहा कि बारदाने को लेकर किसी भी प्रकार की समस्या है तो तत्काल ही राजफैड को सूचित करें। वीडियो काँफ्रेन्सिंग में संयुक्त शासन सचिव सहकारिता श्री सुखवीर सैनी, अतिरिक्त रजिस्ट्रार (द्वितीय) श्री जी.एल. स्वामी, प्रबन्ध निदेशक अपेक्स बैंक श्री विद्याधर गोदारा, अतिरिक्त रजिस्ट्रार (बैंकिंग) श्री महावीर प्रसाद यादव, खण्डीय रजिस्ट्रार, केन्द्रीय सहकारी बैंकों के प्रबन्ध निदेशक एवं सभी जिला उप रजिस्ट्रार सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.