मुख पृष्ठ
Home
 
मूंगफली उत्पादक किसानों को मिली राहत अब 18 जनवरी तक करा सकेंगे ऑनलाइन पंजीयन
जयपुर, 16 जनवरी। सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक ने मंगलवार को बताया कि ऐसे मूंगफली उत्पादक किसान जो समर्थन मूल्य पर मूंगफली के बेचान के लिए समय पर ऑनलाइन पंजीयन नहीं करवा पाए थे, राज्य सरकार ने ऐसे किसानों को राहत देने का निर्णय किया गया है। अब ऐसे वंचित किसान 18 जनवरी तक ऑनलाइन पंजीयन करवा सकेंगे। उन्होंने बताया कि राज्य में मूंगफली की खरीद 24 जनवरी तक होगी। श्री किलक ने बताया कि राज्य में मूंगफली के लिए 52 खरीद केन्द्र बनाए गए हैं, जिन पर अब तक 59 हजार 163 किसानों द्वारा ऑनलाइन पंजीयन करवाया गया जिनमें से 57 हजार 611 किसानों को तुलाई हेतु दिनांकों का आवंटन कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि 51 हजार 198 किसानों से 546 करोड़ 47 लाख रुपए मूल्य की 1 लाख 22 हजार 800 मैट्रिक टन मूंगफली की खरीद की जा चुकी है। सहकारिता मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार की सदैव यह मंशा रही है कि उपलब्ध संसाधनों से किसानों को अधिक से अधिक लाभान्वित किया जाए। मूंगफली के लिए पंजीकृत किसानों की संख्या अधिक होने, कई किसान ऑनलाइन पंजीयन से वंचित रह जाने के कारण राज्य सरकार द्वारा भारत सरकार से मूंगफली खरीद के लक्ष्य एवं समयावधि को बढ़ाए जाने की मांग की गई थी। उन्होंने बताया कि भारत सरकार द्वारा मांगों को मान लिया गया है, इसलिए पंजीयन कराए जाने से वंचित रहे किसानों को मौका देने का निर्णय किया गया है। प्रमुख शासन सचिव एवं रजिस्ट्रार, सहकारिता श्री अभय कुमार ने बताया कि राज्य में अधिक से अधिक किसानों को लाभान्वित करने के लिए मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली की समर्थन मूल्य पर खरीद का कार्य पूर्ण पारदर्शिता के साथ तेजी से किया जा रहा है। इस बार राज्य में 3 लाख 38 हजार 675 किसानों द्वारा अपनी दलहन एवं तिलहन की उपज का समर्थन मूल्य पर बेचान करने के लिए ऑनलाइन पंजीयन करवाया था, जिसमें से 3 लाख 9 हजार 879 किसानों को उपज तुलाई हेतु दिनांकों का आवंटन किया जा चुका है और 2 लाख 58 हजार 469 किसानों से उनकी उपज तुलवाई जा चुकी है। श्री कुमार ने बताया कि 1 लाख 59 हजार 248 किसानों को उनकी उपज का मूल्य उनके पंजीकृत बैंक खातों में सीधे ही ट्रांसफर किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार के इस निर्णय से मूंगफली उत्पादक किसानों को राहत मिलेगी और वंचित किसान निर्धारित समयावधि में अपनी उपज को बेच सकेगा।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.