मुख पृष्ठ
Home
 
समर्थन मूल्य पर 761 करोड़ रुपए की हुई खरीद किसानों को हुआ 560 करोड़ रुपए का ऑनलाइन भुगतान
जयपुर, 17 नवम्बर। सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक ने शुक्रवार को बताया कि 16 नवम्बर तक 81 हजार 104 किसानों से 761.37 करोड़ रुपए की मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली की खरीद की जा चुकी है और 10 नवम्बर तक 60,402 किसानों से की गई 559.73 करोड़ रुपए की खरीद का ऑनलाइन भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि शेष 20,702 किसानों को भी शीघ्र भुगतान कर दिया जाएगा। श्री किलक ने बताया कि राज्य में पहली बार एक साथ चार जिन्स मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली की समर्थन मूल्य पर खरीद की जा रही है। उन्होंने बताया कि राज्य में इन जिन्सों की बम्पर पैदावार को देखते हुए तथा किसानों को अपनी गाढ़े पसीने से उपजाई हुई फसल को बेचने में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए राज्य में 220 खरीद केन्द्र बनाए गए हैं। उन्होंने बताया कि कई किसानों के भामाशाह कार्ड से लिंक बैंक खाता की संख्या गलत है और कई किसानों के पूर्व में एसबीबीजे बैंक में खाता था और अब एसबीबीजे बैंक का एसबीआई बैंक में विलय होने से आईएफएससी कोड में बदलाव आ गया है, इन कारणों से उनके खातों में राशि ट्रांसफर नहीं हो पाई थी। उन्होंने बताया कि ऐसे किसानों को अपने बैंक खाता संख्या की सही जानकारी देने के लिए खरीद केन्द्र पर बैंक पासबुक की छाया प्रति देने के लिए संदेश भेजे जा रहे हैं। सही जानकारी मिलते ही ऐसे किसानों के खातों में भी राशि ट्रांसफर कर दी जाएगी। सहकारिता मंत्री ने बताया कि सही किसान के खाते में ही राशि ट्रांसफर हो इसको पुख्ता करने के लिए बैंक खाते में राशि ट्रांसफर करने से पहले तथा बाद में संदेश भेजकर सूचित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि संदेश पहुंचने के बाद यदि किसी किसान के खाते में राशि नहीं पहुंचती है तो तत्काल टोलफ्री नम्बर 1800-180-6001 पर सूचित किया जाए ताकि ऐसी राशि के दुरूपयोग को रोका जा सके। प्रमुख शासन सचिव एवं रजिस्ट्रार, सहकारिता श्री अभय कुमार ने बताया कि समर्थन मूल्य पर खरीद हेतु राज्य में पहली बार ऑनलाइन पंजीयन की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि अबतक 3 लाख 19 हजार 819 किसानों द्वारा ऑनलाइन पंजीयन करवाया है। श्री कुमार ने बताया कि 1 लाख 27 हजार 387 किसानों को उपज की तुलाई कराने के लिए दिनांकों का आवंटन कर दिया गया है, शेष किसानों को एक सप्ताह में दिनांकों का आवंटन कर उनके पंजीकृत मोबाइल नम्बर पर संदेश भेज दिया जाएगा। श्री कुमार ने बताया कि जिन केन्द्रों पर अधिक किसानों ने ऑनलाइन पंजीयन करवाया है ऐसे केन्द्रों पर तौल कांटों की संख्या बढ़ाने एवं केन्द्रों पर व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिला कलक्टरों को निर्देश जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि किसी सोसायटी के पास या उसके समीप यदि पर्याप्त भण्डारण क्षमता का गोदाम उपलब्ध है तो उसे राज्य भण्डारण निगम को किराए पर दिलवाकर उस सोसायटी में खरीद केन्द्र खोलने की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। राजफैड की प्रबंध निदेशक डॉ. वीना प्रधान ने बताया कि राज्य में अबतक 47 हजार 886 किसानों से 482.85 करोड़ रुपए की 86,609.49 मैट्रिक टन मूंग, 22 हजार 404 किसानों से 181.62 करोड़ रुपए की 33,634.15 मैट्रिक टन उड़द, 3 हजार 758 किसानों से 21.79 करोड़ रुपए की 7,143.19 मैट्रिक टन सोयाबीन एवं 7 हजार 506 किसानों से 75.11 करोड़ रुपए की 16,877.61 मैट्रिक टन मूंगफली की खरीद की गई है। उन्होंने बताया कि भारत सरकार से प्राप्त लक्ष्यों के अनुसार 1 लाख 50 हजार मैट्रिक टन मूंग, 60 हजार मैट्रिक टन उड़द, 1 लाख 50 हजार मैट्रिक टन सोयाबीन तथा 1 लाख 50 हजार मैट्रिक टन मूंगफली की समर्थन मूल्य पर खरीद की जाएगी।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.