मुख पृष्ठ
Home
 
सहकारिता के माध्यम से त्वरित आर्थिक विकास में तकनीक की है उपादेयता -मुख्यमंत्री श्रीमती वंसुधरा राजे
जयपुर, 14 नवम्बर। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे ने 64वें अखिल भारतीय सहकार सप्ताह के आयोजन के अवसर पर समस्त सहकार बंधुओं को सहकारी शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए कहा कि इस वर्ष का सहकार सप्ताह का थीम वाक्य ‘‘सहकारी समितियों के डिजीटलीकरण के माध्यम से लोगों को सशक्त बनाना’’ रखा गया है, जो सहकारिता के माध्यम से त्वरित आर्थिक विकास में तकनीक की उपादेयता को रेखांकित करता है। श्रीमती राजे ने कहा है कि किसी भी विकासशील समाज एवं उभरती हुई अर्थव्यवस्था में सूचना प्रौद्योगिकी एवं डिजीटलाईजेशन का प्रयोग एक महत्वपूर्ण घटक है। यह सराहनीय है कि सहकारी संस्थाओं ने अपने सदस्यों को त्वरित, पारदर्शी एवं आधुनिक तरीकों से सेवाएं प्रदान करने के लिए डिजीटलीकरण को अपनाते हुए कार्यप्रणाली में बदलाव किया है। जिसके फलस्वरूप बदलते आर्थिक परिवेष में सहकारी संस्थाएं अपनी उपयोगिता सिद्ध करने में सफल रही है। सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक ने अखिल भारतीय सहकार सप्ताह के आयोजन के अवसर पर बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए तकनीक के क्षेत्र में तेजी से हो रहे परिवर्तन के दौर में इस वर्ष सहकार सप्ताह के लिए रखी गई थीम लाईन को महत्वपूर्ण कदम बताया है। श्री किलक ने कहा की लाभ से वंचित एवं आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्तियों को चिर-स्थायी, सुरक्षित एवं त्वरित सेवाएं प्रदान कर उन्हें सशक्त करने के लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में कार्य किया जा रहा है। सहकारी सुविधाओं के विस्तार और प्रक्रिया में डिजीटलीकरण का यह परिणाम है कि राज्य की अर्थव्यवस्था में वस्तु एवं सेवाओं का प्रवाह बढ़ रहा है। इस प्रयास से लोगों के जीपन स्तर में गुणत्मक परिवर्तन हुआ है। प्रमुख शासन सचिव एवं रजिस्ट्रार सहकारिता श्री अभय कुमार ने अपने संदेश में कहा कि इस वर्ष के सहकार सप्ताह की थीम आमजन के निरन्तर एवं सर्वांगीण विकास में सहकारिता एवं तकनीक के महत्व को दर्शाता है। श्री कुमार ने कहा कि सहकारी समितियों के डिजीटलीकरण के माध्यम से लोगों के आर्थिक सशक्तिकरण एवं सामाजिक उन्नयन में महत्वपूर्ण सफलता मिली है। तकनीकी जागरूकता पैदा कर नकद रहित भुगतान को बढ़ावा देने तथा ग्रामीण क्षेत्रों के दूर दराज स्थानों पर घर बैठे गुणवत्तापूर्ण त्वरित बैंकिंग सेवाएं देने में सहकारी बैंकों ने अभूतपूर्व कार्य किया है। उन्होंने कहा कि राज्य में सहकारिता का अधिकाधिक प्रसार करने एवं युवा पीढ़ी को इससे जोड़ने के लिए सहकारी कानून को सशक्त बनाया जा रहा है। राज्य में कौशल विकास के लिए विशेषकर महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें सहकारी ऋण एवं तकनीकी ज्ञान उपलब्ध करवाया जा रहा है। सहकारी संस्थाओं के द्वारा समर्थन मूल्य पर ऑनलाईन खरीद व्यवस्था एवं उपभोक्ता संघ द्वारा ऑनलाईन बिक्री सुविधा की शुरूआत हो चुकी है एवं इसका आगे विस्तार किया जा रहा है। श्री कुमार ने बताया कि 64वें अखिल भारतीय सहकार सप्ताह के प्रथम दिवस का आयोजन सहकारी संस्थाओं के द्वारा अलग-अलग विषय पर दिनांक 14 से 20 नवम्बर तक आयोजित किये जाएंगे।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.