मुख पृष्ठ
Home
 
बिना निर्धारित प्रारूप व सूचनाओं वाली ऑडिट रिपोर्टों को किया जाएगा निरस्त -प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता श्री अभय कुमार
जयपुर, 27 अक्टूबर। रजिस्ट्रार एवं प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता श्री अभय कुमार ने शुक्रवार को बताया कि जिन गृह निर्माण सहकारी समितियों की ऑडिट रिपोर्ट को निर्धारित प्रारूप में प्रस्तुत नहीं किया गया है और जिसके साथ आवश्यक प्रपत्र एवं सूचियां संलग्न नहीं की गई हैं, ऐसी समितियों की ऑडिट रिपोर्ट को निरस्त किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सहकारिता कानून में इसके लिए पर्याप्त प्रावधान हैं। श्री कुमार ने बताया कि ऐसी समितियों की ऑडिट पुनः कराने के लिए ऑडिटर नियुक्त किया जाएगा ताकि सही वस्तुस्थिति सामने आ सके। उन्होंने बताया कि समिति की ऑडिट रिपोर्ट को तैयार करने में लीपापोती करने के लिए यदि ऑडिटर को दोषी पाया गया तो उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। ऐसी समितियां जिनकी ऑडिट चार्टर्ड एकाउण्टेंट द्वारा की गई है और वे लीपापोती के लिए दोषी पाए जाते हैं तो उनके विरूद्ध कार्यवाही करने के लिए आईसीएआई को लिखा जाएगा। उन्होंने बताया कि इन समितियों की कार्यप्रणाली में पारदर्शिता स्थापित करने तथा आमजन को धोखाधड़ी से बचाने के लिए यह कदम उठाया गया है। उन्होंने बताया कि सभी समितियों के लिए ऑडिटर को ऑडिट के लिए आवश्यक सूचनाएं एवं रिकार्ड देना बाध्यकारी है। जो भी समिति ऑडिटर को आवश्यक सूचनाएं एवं रिकार्ड प्रस्तुत नहीं करेंगी, उनके विरूद्ध कानूनी कार्यवाही की जाएगी। एनजीओ एवं सहकारी समितियों का ऑनलाईन पंजीयन हुआ शुरू प्रमुख शासन सचिव ने बताया कि सहकारिता विभाग ने डिजिटलीकरण एवं सूचना प्रौद्योगिकी के प्रयोग कर आमजन के लिए गैर सरकारी संगठन,विकास समितियां, अन्य सामाजिक कार्यों की समितियों का ऑनलाईन पंजीयन व्यवस्था प्रारम्भ कर दी है। सहकारी समितियों का ऑनलाईन पंजीयन 30अक्टूबर से प्रारम्भ करने के लिए निर्देश जारी कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि अब इन समितियों की ऑफलाईन पंजीयन की व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया है। श्री कुमार ने बताया कि इनके पंजीयन के संबंध में विस्तृत दिशा निर्देश विभागीय वेबसाईट www.rajcooperatives.nic.in पर उपलब्ध कराए गए हैं। अब कोई भी इच्छुक व्यक्ति सिंगल साईन ऑन के माध्यम से या ईमित्र केन्द्र पर जाकर संस्था का पंजीयन करवा सकता है। उन्होंने बताया कि इस सुविधा से आमजन को पंजीयन कार्यालय एवं बैंक के चक्कर लगाने से मुक्ति मिल जाएगी।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.