मुख पृष्ठ
Home
 
राज्य में हुई 120 करोड़ रुपये से अधिक की हुई समर्थन मूल्य पर खरीद दैनिक समीक्षा कर किया जा रहा है व्यवस्थाओं को दुरस्त
जयपुर, 18 अक्टूबर। रजिस्ट्रार एवं प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता श्री अभय कुमार ने बुधवार को राजफैड में समर्थन मूल्य पर खरीद की समीक्षा करते हुए बताया कि राज्य में अबतक 120 करोड़ रुपए से अधिक मूल्य की समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, सोयाबीन तथा मूंगफली की खरीद की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि किसानों में समर्थन मूल्य पर दलहन एवं तिलहन की खरीद के लिए आॅनलाईन पंजीयन की प्रक्रिया को लेकर भारी उत्साह है। महिलाएं हो रही हैं आर्थिक रूप से सशक्त श्री कुमार ने बताया कि अबतक 14 हजार 444 काश्तकारों से समर्थन मूल्य पर खरीद की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त करने तथा कृषि कार्यों में उनकी उपयोगिता को महत्व देने की दृष्टि से भामाशाह कार्ड के जरिए आॅनलाईन पंजीयन की व्यवस्था की गई है। इस निर्णय से अब महिला मुखिया के बैंक खाते में कृषि उपज का मूल्य ट्रांसफर किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक किसान परिवारों की महिला मुखिया के बैंक खातों में लगभग 34 करोड़ 14 लाख रुपये ट्रांसफर किए जा चुके हैं। एफएक्यू मानदण्ड के अनुसार उपज लाने पर हो सकेंगे अधिक किसान लाभान्वित प्रमुख शासन सचिव ने बताया कि किसानों को नेफैड द्वारा निर्धारित किए गए उचित औसत गुणवत्ता (एफएक्यू) के मानदण्डों के अनुसार उपज को खरीद केन्द्रों पर तैयार कर लाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे अधिक से अधिक किसानों से उनकी उपज को खरीद कर लाभान्वित किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि हमारा प्रयास है कि वेयरहाउस के स्तर पर एफएक्यू मानदण्डों के आधार पर किसानों का माल अस्वीकार न हो इसके लिए नेफैड की ओर से लगाए गए सर्वेयर को एफएक्यू मानदण्डों की पालना सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिए गए हैं। एक लाख से अधिक किसानों ने कराया आॅनलाईन पंजीयन उन्होंने बताया कि चारों उपजों के लिए 1 लाख 3 हजार 385 काश्तकारों द्वारा पंजीयन करवाया गया है तथा 52 हजार से अधिक पंजीयनकर्ता किसानों को उनकी उपज की तुलाई के लिए दिनांकों को आवंटन कर दिया गया है। शेष को दिनांक आवंटन की कार्यवाही की जा रही है। श्री कुमार ने बताया कि किसानों को अपनी उपज बेचने में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए राज्य में अभी तक मूंग के लिए 92 खरीद केन्द्र, उड़द के लिए 36 खरीद केन्द्र, सोयाबीन के लिए 23 केन्द्र तथा मूंगफली के लिए 40 केन्द्र बनाए गए हैं। उन्होंने बताया कि इन खरीद केन्द्रों पर किसानों द्वारा कराए गए आॅनलाईन पंजीयन के आधार पर दैनिक समीक्षा की जा रही है तथा उसके आधार पर अधिकाधिक किसानों से भारत सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्यों के अनुरूप खरीद हो सके इसके लिए व्यवस्थाओं को दुरस्त किया जा रहा है।
 
 
Site designed & hosted by National Informatics Centre.
Contents provided by Department of Cooperation, Govt. of Rajasthan.